संभव है कि होम पेज खोलने पर इस ब्लॉग में किसी किसी पोस्ट में आपको प्लेयर नहीं दिखे, आप पोस्ट के शीर्षक पर क्लिक करें, अब आपको प्लेयर भी दिखने लगेगा, धन्यवाद।

Friday, 11 April, 2008

प्यारी तुम कितनी सुंदर हो: जगमोहन

मित्रों आज आपको एक बेहद मधुर और खूबसूरत गीत सुनवा रहा हूँ। जगमोहन की आवाज में मेरी आँखे बनी दीवानी और ओ वर्षा के पहले बादल सुन चुके हैं। जगमोहनजी की आवाज एकदम अलग पर इतनी खूबसूरत कि बस पूछे ना.. मीत के शब्दों में कहें तो

 इस आवाज़ का जादू भी कमाल है. कविता में जान डाल देती है. आवाज़ की रवानी का जवाब नहीं. ये गीत तो भी लाजवाब है ही, जगमोहन की आवाज़ में तो बस .... कुछ न पूछें.

सुंदर हो
कितनी सुंदर हो
प्यारी तुम कितनी सुंदर हो..२

मंदिर सा तेरा जीवन है
प्रतिमा जैसा तेरा मन है
धूप कपूर के सद चन्दन से-२
बना हुआ तेरा तन  है-२

कहे देवता तुम मनहर हो..
कहे देवता तुम मनहर हो..
प्यारी तुम कितनी सुंदर हो-२

रात समय की तुम हो लाली
और अमृत की तुम हो प्याली
तुम  ही दशहरा तुम्ही दीवाली
देवी हो इसीलिये अमर हो-२
प्यारी  तुम-२

तुम दुनियां में रूप की राशि
तुम गंगा हो तुम हो काशी
बिधनाने की भूल जरा सी
तुम्हे बनाया जग का वासी

कुछ भी हो तुम बड़ी मधुर हो
कुछ भी हो तुम बड़ी मधुर हो
प्यारी तुम कितनी...
सुंद हो ... कितनी सुंदर हो
प्यारी तुम

4 टिप्पणियाँ/Coments:

mamta said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

इस गीत को पहले कभी सुना हो याद नही पार आज सुनकर अच्छा लगा।

Neeraj Rohilla said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

वाह सागरजी,
बहुत सुन्दर गीत है । जगमोहन जी की आवाज में जादू है । उनके और भी गीतों को सुनवाईयेगा, इन्तजार रहेगा ।

उनका एक और गीत मुझे बेहद पसन्द है, "एक बार मुस्कुरा दो", आपने सुना ही होगा ।

Suresh Chiplunkar said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

लगे रहो सागर भाई म्यूजिक वाले… :) बढ़िया।

asad said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

Is sachche moti yaani shaandaar blog ko kahaan chhupaa rakhaa hai. Is kaa member kaise banaa jaa saktaa hai? Mere blog par bhi kabhi aaiye...haalaanki abhi kaam karne kee zaroorat hai.

http://hamkalaam.blogspot.com

ye roman lipi mein hai lekin aise gaanon ke baare mein hai jinke bolon ki prerna ya to kisi puraane gaane se lee gayi hai yaa phir puraane sher se.

Asad

Post a Comment

आपकी टिप्प्णीयां हमारा हौसला अफजाई करती है अत: आपसे अनुरोध करते हैं कि यहाँ टिप्प्णीयाँ लिखकर हमें प्रोत्साहित करें।

Blog Widget by LinkWithin

गीतों की महफिल ©Template Blogger Green by Dicas Blogger.

TOPO