संभव है कि होम पेज खोलने पर इस ब्लॉग में किसी किसी पोस्ट में आपको प्लेयर नहीं दिखे, आप पोस्ट के शीर्षक पर क्लिक करें, अब आपको प्लेयर भी दिखने लगेगा, धन्यवाद।

Wednesday 30 December 2009

दिले नादां तुझे हुआ क्या है: सुमन कल्याणपुर की आवज में सुन्दर गज़ल

आपने मिर्ज़ा गालिबمرزا اسد اللہ خان की सुप्रसिद्ध गज़ल दिले नादां तुझे हुआ क्या है... कई गायकों की आवाज में सुनी होगी। लगभग सभी गायकों ने इस सुन्दर गज़ल को अपने अपने तरीके से गाया। कुछ बहुत प्रसिद्ध हुई और कुछ गुमनामी के अंधेरे में खो गई।
आज सुनिए इस सुन्दर गज़ल को सुमन कल्याणपुर की आवाज में। यह भी एकदम दुर्लभ है।




दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है
आखिर इस दर्द की दवा क्या है

हम हैं मुश्ताक़ और वो बेज़ार
या इलाही, ये माजरा क्या है

मैं भी मुँह में ज़ुबान रखता हूँ
काश पूछो की मुद्दआ क्या है

हमको उनसे वफ़ा कि है उम्मीद
जो नहीं जानते वफ़ा क्या है
डाउनलोड लिंक -> दिल-ए-नादां तुझे हुआ क्या है?

5 टिप्पणियाँ/Coments:

AVADH said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

प्रिय सागर जी,
भले ही कुछ दिनों के अंतराल से ही फिर एक बेहद अच्छी चीज़ सुनाने को मिली.
बहुत बहुत धन्यवाद और ऐसे ही हम लोगों को संगीत रस का स्वाद दिलाते रहिये.
आभार सहित,
अवध लाल

निर्मला कपिला said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

इस लाजवाब गज़ल को सुनवाने के लिये धन्यवाद । नये साल की शुभकामनायें0

राज भाटिय़ा said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बहुत सुंदर गजल सुनाने के लिये आप का धन्यवाद

दिलीप कवठेकर said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बेहद ही बढियां तर्ज़ है इस गज़ल की.. सुमन जी का भी कमाल है.

Dipak said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

maja aa gaya, mere collection me ek aur achhi gazal nayi aawaaz ke saath.

Post a Comment

आपकी टिप्प्णीयां हमारा हौसला अफजाई करती है अत: आपसे अनुरोध करते हैं कि यहाँ टिप्प्णीयाँ लिखकर हमें प्रोत्साहित करें।

Blog Widget by LinkWithin

गीतों की महफिल ©Template Blogger Green by Dicas Blogger.

TOPO