संभव है कि होम पेज खोलने पर इस ब्लॉग में किसी किसी पोस्ट में आपको प्लेयर नहीं दिखे, आप पोस्ट के शीर्षक पर क्लिक करें, अब आपको प्लेयर भी दिखने लगेगा, धन्यवाद।

Monday, 18 August, 2008

ना ना बरसो बादल , आज बरसे नैन से जल: लताजी

पिछली पोस्ट में मीराबाई काली घटाओ को देखकर कह रही थी बादल देख डरी!! सम्राट पृथ्वीराह चौहान की नायिका का दुख: भी कुछ ऐसा ही है वह तो बादलों को बरसने से भी मना कर रही है।

बिरहिनी नायिका के नयनों से जल बारिश की तरह बरस रहा है, उसका मन मोर घायल है। आज उसे बारिश की बूंदें भी नहीं सुहा रही,, आईये सम्राट चन्द्र गुप्त फिल्म का राग मल्हार में बना, वसंत देसाई का संगीतबद्ध और लताजी का गाया हुआ यह मधुर गीत सुनते हैं, और हाँ यह गीत रचा है भरत व्यास ने।












ना ना ना बरसो बादल
आज बरसे नैन से जल
आज मन का मोर घायल
ना ना ना...

आज बरखा है दीवानी नयन जल खोये
बादलों के ही बहाने बिरहिणी रोये
बुंदनियों की छुम छन न न न-२
बाजे रे पायल , बाजे रे पायल
ना ना

श्याम बिन श्यामल घटा मन को नहीं भाए
पिया बिन बिजली हिया में अगन सुलगाए
नीले नयनो के गगन से-२
झरे रे काजल , झरे रे काजल..

ना ना ना बरसो बादल

16 टिप्पणियाँ/Coments:

yunus said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बारिश विहीन दिन में बारिश का आनंद आ गया ।
मजा आ गया

अफ़लातून said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

अत्यन्त कर्णप्रिय गीत । मुझे याद आ गया चन्द्रगुप्त नाटक , जयशंकर प्रसाद का। प्रसाद के गीतों को धुन दी थी छन्नूलाल मिश्र ने। मैं बना था नन्द ।
अपनी मशीन पर ही सुना ,इसके लिए भी मेहरबानी।

अफ़लातून said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

अत्यन्त कर्णप्रिय गीत । मुझे याद आ गया चन्द्रगुप्त नाटक , जयशंकर प्रसाद का। प्रसाद के गीतों को धुन दी थी छन्नूलाल मिश्र ने। मैं बना था नन्द ।
अपनी मशीन पर ही सुना ,इसके लिए भी मेहरबानी।

रंजना [रंजू भाटिया] said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बहुत पुराना गाना है ..सुंदर लगा

Parul said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

malhar ke swar lagtey hi mun bheeg jata hai...adhbhut post...pichhli post bhi bahut acchhi lagi thii...aabhaar

mamta said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

इतना मीठा और बारिश से सराबोर गीत सुनकर आनंद आ गया ।

अनुराग said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

shuriya is geet ke liye....

Udan Tashtari said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

आनंद आ गया....

Lavanyam - Antarman said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

कितना मधुर गीत सुनवाया आपने नाहर भाइस्सा` -
बहुत आभार !
सँगीत अनूठा है -
अब ऐसे गीतोँ को अमरता मिलेगी - हिन्दी ब्लोग जगत
और आप जैसे प्रस्तुतकर्ता बहोत उत्तम योगदान दे रहे हैँ जो अमुल्य है ~~
स्नेह,
- लावण्या

मेनका said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

Can it be possible for visitors on ur blog..to download the songs also...if in someway..then pls let me know.

Harshad Jangla said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

Sagarbhai

If this song is from Samrat Chandragupta, MD is Kalyanji-Anandji and not Vasant Desai.
But plz varify the name of the film. My info abt MD of Samrat... is correct.

-Harshad Jangla
Atlanta, USA

गरिमा said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बडे भईया... लिजीये.. आपके लिये :P

आ आ आजा रे बादल
देख तूझको बुलायें नयनजल
आज मेरा दिल है घायल
आ आ आजा रे बादल

देख सखियाँ मुझको छेडे
मोसे पूछे क्यों मै रोऊँ
छन छन भीगे मेरा आँचल
आ आ छुपा ले राज मेरा
तेरे संग-संग मै भी रो लूँ
आ आ आजा रे बादल
देख तूझको बुलायें नयनजल

दर्द दिल का किससे बोलूँ
राज किसपर अपना खोलूँ
जग हसेगा, जो मै रोऊँ
कर ना ऐसा सितम मूझपर
आ आ आजारे बादल
आ आ आजारे बादल

मेनका said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

Geet ke liye aapka bahut bahut dhanyabaad.

संजय पटेल said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

सागर भाई,
लताजी जो भी गातीं हैं वह संगीत का अंतिम सत्य होता है. वे अपने को कभी नहीं दोहराती . एक इंटरव्यू में ये पूछा जाने पर कि आपका काम बड़ा है या संगीतकार का. लताजी की विनम्रता देखिये..उन्होंने कहा : संगीतकार का. वो सिरजता है.हम माध्यम हैं .तो फ़िर आपका क्या योगदान गाने के सृजन में....लता जी का उत्तर:हम समय की मर्यादा में संगीतकार के सृजन को कंठ से अभिव्यक्त कर देते हैं.

सागर भाई क्या लाजवाब बंदिश है.शास्त्र न समझने वाले मेरे जैसे कानसेनों के लिये कितना बड़ा आसरा है संगीत को इंजॉय करने का....ज़रा ध्यान से सुनियेगा...ना ना ना में तीसरे ना में कैसी विकल हो गईं हैं लता जी...मीरा सी.

anitakumar said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

वाह सागर जी मजा आ गया, क्या संगीत है

Rajshree Sharma said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

@yunusek siharan sii daud jati hai ese umda geet sunkar dhanywad sagarji

Post a Comment

आपकी टिप्प्णीयां हमारा हौसला अफजाई करती है अत: आपसे अनुरोध करते हैं कि यहाँ टिप्प्णीयाँ लिखकर हमें प्रोत्साहित करें।

Blog Widget by LinkWithin

गीतों की महफिल ©Template Blogger Green by Dicas Blogger.

TOPO