संभव है कि होम पेज खोलने पर इस ब्लॉग में किसी किसी पोस्ट में आपको प्लेयर नहीं दिखे, आप पोस्ट के शीर्षक पर क्लिक करें, अब आपको प्लेयर भी दिखने लगेगा, धन्यवाद।

Saturday, 3 January, 2009

महफ़िल के चाहने वालों के लिये एक छोटी सी क्विज, :-)

हिन्दी फ़िल्म संगीत में बहुत से गीत ऐसे हैं जिनकी शुरूआत गायक मद्धम सुर में गुनगुनाते (Humming) हुये करते/करती है । इस पोस्ट का उद्देश्य है कि ऐसे गीतों को याद किया जाये ।

उदाहरण के लिये:
रफ़ी साहब का मस्ताने अंदाज में "दीवाना हुआ बादल" की शुरूआत में गुनगुनाना, या फ़िर "साथी न कोई मंजिल", "हम बेखुदी में तुमको पुकारे चले गये" । मैं बहुत से अन्य गीतों को जुटाने का काम अपने पाठकों को सौंपता हूँ :-)

इसके अलावा कुछ गीत ऐसे भी हैं जो गुनगुनाने के लिये बडे मुफ़ीद हैं । जैसे "मेरे महबूब तुझे मेरी मोहब्ब्त की कसम", "कुछ दिल न कहा, कुछ भी नहीं", "मैं दिल हूँ इक अरमान भरा" आदि । आप ऐसे गीतों को भी अपनी टिप्पणी में स्थान दे सकते हैं । फ़िर देर किस बात की है, अपने विचार हमें लिख भेजिये ।

15 टिप्पणियाँ/Coments:

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

Aayega aanewala ke pehle without music chand sher hain -
I'm remembering that

अजित वडनेरकर said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

दीवाना हुआ ...से पहले की रफी साहब की गुनगुनाहट का तो मैं जबर्दस्त दीवाना हूं। इसमें नैयर साहब का भी बड़ा हाथ है...

सागर नाहर said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

इस तरह के गीत तलतमहमूद साहब ने बहुत से गाये हैं.. एक अभी याद आ रहा है-
चांद एक बेवफा की चूड़ी की तरह टूटा हुआ...
बाकी के गीत अगली टिप्पणियों में।

राज भाटिय़ा said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

प्यासा फ़िल्म का एक गीत... यह दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है.
जिनेह नाज है हिन्द वो कहा है...
ओर भी बहुत से गीत.
धन्यवाद

MUFLIS said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

abhi to bs film BARSAAT ka geet yaad
aa rahaa hai....
"Oooo mujhe kisi se pyaar ho gya..." (Lataji)
Aur ek wo...Rafi sahab ka film HAQIQAT se...
"main ye soch kr usske dr se utha tha.."
Aur gun.gunane ke liye to wo bhi achha hai..
"chain se hum ko kabhi aapne jine na diya.."
film PRAN JAYE PR VACHAN NA JAYE (Ashaji)
Aur haaN !!
"dil ka bhanwar kre pukaar..."
Rafiji film...?... shayad TERE GHR KE SAAMNE

---MUFLIS---

chander said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

bhai geet sangit ka hame bhi bhahut shok to hai per aap ne jis tarike se anubhute karai hai lajwab hai koshish ho gi ki aap ke blog per is prakar ki sangeet charch ko hum bhi pade. badhai swikar kare.

सागर नाहर said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

लीजिये एक और याद आया... मैं दिल हूं एक अरमान भरा (अनहोनी 195) तलत महमूद।

A S MURTY said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

Haqeekat film mein Rafi Sahab ka gaya hua nagma - MEIN YEH SOCH KAR USKE DAR SE UTHA THA KE WOH ROK LEGI MANALEGI MUJHKO ke prarambh mein bhi aise hi gungunahat hai jo ki madmast lagti hai. Zaroor suniyega.

Chandar said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

Ek Hasin Sham Ko from Dulhan Ek Raat ki sung by Rafi Sahab

S.Chandar

shelley said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

hai n jo wada kiya wo nibhana pdega

Vijay Kumar said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

स्वप्न झरे फूल -से ,मीत चुभे शूल - से ...........कारवां गुजर गया गुबार देखते रहे . यह गीत इसी श्रेणी में है .मेरे ब्लोग पर आकर इसी गीत की धुन पर लिखा गया एक देशभक्ति गीत अवश्य पढ़े

दिलीप कवठेकर said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

वाह, क्या खूब.

वैसे कई गीत है, जिसमें गीत के प्रील्युड में हमिंग है.जिसमें हमिंग में सिर्फ़ गुनगुनाना है, और कई गीत यूं भी हैं जिसमें बोल भी हैं, जो शायद इस श्रेणी में आप ना रखें.

हेमंतकुमार के भी कई गीत है,
तुम पुकार लो, ये नयन डरे डरे, ये रात ये चांदनी फ़िर कहां, आदि,

तलत मेहमूद का
प्यार पर बस तो नही है(आशा),

रफ़ी का

ज़िन्दगी भर नहीं भूलेगी, चौहदवी का चांद हो, इशारों इशारों में दिल लेन वाले, तेरे बिन सूने नैन हमारे, तुमने पुका्रा और हम चले आये

मन्ना दा का
सुर ना सजे क्या गाऊं मैं, पूछो ना कैसे मैंने, और कई शास्त्रीय रंग में धले गीत.

बोलों के साथ आपाल वाले गानें भी बहुत मिल जायेंगे, जिसको गाने वालों की ज़ुबान में गीत की साक़ी कहते है.

अल्पना वर्मा said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

bahut se geet hain..jaise...rajani gandha phool tumhare..[lata ji]

-naghma o sher ki saugat kisey pesh karun-lata ji

-koi duur se awaaz de-geeta dutt

-aaj dil pe koi zor chalta nahin-lata ji
-

दिलीप कवठेकर said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

किशोर दा के गीत :

ये शाम मस्तानी,मेरे मेहबूब कयामत होगी, रात कली एक ख्वाब में आयी, आदि और है

महेन said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

कहीं बेखयाल होकर यूँही छू लिया किसी ने...

Post a Comment

आपकी टिप्प्णीयां हमारा हौसला अफजाई करती है अत: आपसे अनुरोध करते हैं कि यहाँ टिप्प्णीयाँ लिखकर हमें प्रोत्साहित करें।

Blog Widget by LinkWithin

गीतों की महफिल ©Template Blogger Green by Dicas Blogger.

TOPO