संभव है कि होम पेज खोलने पर इस ब्लॉग में किसी किसी पोस्ट में आपको प्लेयर नहीं दिखे, आप पोस्ट के शीर्षक पर क्लिक करें, अब आपको प्लेयर भी दिखने लगेगा, धन्यवाद।

Friday, 27 August, 2010

कुछ दर्द कलेजे से लगाने के लिये है

अब ये भी नहीं ठीक कि हर दर्द मिटा दें
कुछ दर्द कलेजे से लगने के लिये है
स्व. मुकेश जी को पुण्य तिथी पर हार्दिक श्रद्धान्जली। आज मैं आपको मुकेशजी की गाई एक नायाब गैर फिल्मी गज़ल सुना रहा हूँ। इस गज़ल को लिखा है जानिंसार अख्तर ने और संगीत दिया है खैयाम साहब ने।
आईये सुनते हैं।

अशआर मेरे यूं तो ज़माने के लिये है
कुछ शेर फ़कत उनको सुनने के लिये है

अब ये भी नहीं ठीक कि हर दर्द मिटा दें
कुछ दर्द कलेजे से लगाने के लिये है

आँखो में जो भर लोगे तो काँटो से चुभेंगे
ये ख्वाब तो पलकों पे सजाने के लिये है

देखुं जो तेरे हाथों को लगता है तेरे हाथ
मन्दिर में फ़कत दीप जलने के लिये है

सोचो तो बड़ी चीज़ है तहज़ीब बदन की
वर्ना तो बदन आग बुझाने के लिये है

Download Link

12 टिप्पणियाँ/Coments:

पारूल said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बेमिसाल !

राज भाटिय़ा said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बहुत ही खुब सुरत जी, धन्यवाद इस अति सुंदर गजल को सुनाने केलिये

अफ़लातून said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

सागर ,आपके प्रेम के कारण मुझे भी खजाना मिल गया था। फ़कत दीप ’जलाने ’ के लिए होना चाहिए। सुन्दर पोस्ट के लिए हार्दिक बधाई।

murari said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

DHANYAWAD BHAI SAHEB............

madhu saraf said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

kya kahun ! DIL khus kar diya

Dr Prabhat Tandon said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बहुत ही खूबूसूरत !!

दिलीप कवठेकर said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

मज़ा आ गया....

RA said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

Sagar Bhai,
This is a wonderful selection.
I am not much of a Mukesh fan but love his non filmy ghazals and the combination of Mukesh and Salil Chowdhury.

प्रवीण पाण्डेय said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

बहुत अच्छा लगा सुन कर।

Kedar said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

Sagarji... bahot hi khoobsoorat ghazal...though i m not a big fan of Mukeshji, it was a very good feel listening to this rare gem....
abhinandan sagarji...

Archana said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

सालों बाद सुनी, शुक्रिया....

सतीश सक्सेना said... Best Blogger Tips[Reply to comment]Best Blogger Templates

कमाल की रचना है ! गज़ब ....
शुभकामनायें आपको !

Post a Comment

आपकी टिप्प्णीयां हमारा हौसला अफजाई करती है अत: आपसे अनुरोध करते हैं कि यहाँ टिप्प्णीयाँ लिखकर हमें प्रोत्साहित करें।

Blog Widget by LinkWithin

गीतों की महफिल ©Template Blogger Green by Dicas Blogger.

TOPO